ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: आज शारदीय नवरात्र का तीसरा दिन है | नवरात्रि के तीसरे दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में माता चंद्रघंटा की पूजा होती है | दुर्गा का तीसरा रूप चंद्रघंटा है | इनके मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र है, जिसके चलते इन्हें चंद्रघंटा देवी कहा जाता है | इनके शरीर का रंग सोने के समान बहुत चमकीला है और इनके दस हाथ हैं |

वे खड्ग और अन्य अस्त्र-शस्त्र से विभूषित हैं | माता सिंह पर सवार दुष्टों के संहार के लिए हमेशा तैयार रहती हैं | इनके घंटे सी भयानक ध्वनि से अत्याचारी दानव-दैत्य और राक्षस कांपते रहते हैं | माता अपने भक्तों पर हमेशा कृपा बनाए रखती है |

पटियाला

माता के नवरात्रों में पहले दिन सांझी माता की मूर्ति घर में पूजा के लिए लाई जाती है | आपको बता दें कि सांझी माता की पूजा से पहले नवरात्रे की शुरूआत की जाती है और नौ नवरात्रों तक शाम के वक्त माता सांझी देवी की पूजा की जाती है |  जानकारी देते हुए एक महिला ने बताया कि हर वर्ष की तरह इस साल भी नवरात्रों के दिन वह सांझी माता की मूर्ति अपने घर में ले जाकर पूजा करेंगी और अंतिम दिन सांझी माता को जल विसर्जन करेंगी |

Watch Video

LEAVE A REPLY