ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बिहार के बाद अब फरीदाबाद में भी चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं।

newborn baby फरीदाबाद के एकमात्र अस्पताल बादशाह खान के 2019 के आंकड़ों के अनुसार, 125 नवजातों की मौत के बाद सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों और सरकार के ऊपर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। इस मामले को लेकर प्रधान चिकित्सा अधिकारी सविता यादव ने संशाधनों की कमी का हवाला दिया है।

newborn baby

उनका कहना है कि, 29 लाख की आबादी वाले इस शहर के बच्चों के इलाज के लिए केवल एक ही निक्को वार्ड की सुविधा अस्पताल के अंदर है, जिसमें बेड की भी संख्या काफी कम है। वहीं उन्होंने कहा कि, 1 साल में तकरीबन 2200 बच्चे इलाज के लिए एडमिट हुए थे, जिसमें से अधिकतर बच्चे बेहद नाजुक स्थिति में अस्पताल पहुंचे थे जिनके इलाज के दौरान मौत हुई है। संशाधनों की कमी को दूर करने के लिए सरकार को  पत्र लिखा गया है।

LEAVE A REPLY