ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: देश डिजिटलइजेशन की ओर बढ़ रहा है, शहर से लेकर गांव इंटरनेट से जुड़ रहे हैं, वहीं आज भी कई गांव ऐसे हैं जो जादू-टोने और तंत्र से बाहर नहीं निकल पाए हैं। आए दिनों नरबलियों और डायन के नाम पर किए जाने वाले उत्पीड़न-हत्याओं की खबरें सामेन आती रहती है। इस अंध-विशवास के चलते न जाने कितने लोग अपनी जिंदगियों से हाथ धो बैठे हैं, और कितनो को जिल्लत का सामना करना पडा है।  देवभूमि हिमाचल एकबार फिर शर्मसार हुई है। मंडी जिले में अंधविश्वास का ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानकर हर किसी का कलेजा दर्द से कांप उठेगा।
मंडी ज़िले  मे70 साल की बुज़ुर्ग महिला पर जादू-टोना करने का आरोप लगाकर बदसलूकी की गई। बुजुर्ग महिला का मुंह काला कर और जूतों की माला पहना कर उसे नंगे पांव पूरे गांव में घूमाया गया। लोग खड़ो होकर तमाशा देखते रहे, वीडियो बनाते रहे और मजाक उड़ाते रहे। महिला रहम का भीख मांगती रही, लेकिन कोई उसकी मदद के लिए आगे न आया। सरकाघाट के समाहल गांव में हुई इस बर्बर घटना के बाद महिला सदमे में हैं। मामले सामने आने के बाद पूरे प्रदेश में इस घटना को लेकर नाराज़गी और ग़ुस्सा देखने को मिल रहा है। पीड़ित महिला अभी अपनी बेटी के पास हमीरपुर चली गई हैं मगर अभी भी सामान्य नहीं हो पाई हैं।

बेटी के मुताबिक़, उन्होंने पिछले 48 घंटों से एक शब्द भी नहीं कहा है और खाना भी बमुश्किल खाया है।  बेटी भी यक़ीन नहीं कर पा रही कि कैसे उनकी विधवा मां के साथ गांव के ही लोगों ने यह बर्बरता की। यह घटना 6 नवंबर को हुई थी मगर जब तक इसका वीडियो वायरल नहीं हुआ, तब तक प्रशासन और पुलिस की ओर से किसी ने पीड़ित की सुध नहीं ली।

बुजुर्ग महिला के साथ इस तरह की बदसलुकी हमारे पढ़े लिखे समाज पर एक तमाचे की तरह है। देश कितनी भी तरक्की कर ले, लेकिन जब तक ऐसी संकीर्ण मानसिकता वाले लोग हमारे समाज में रहेंगे, तब तक ऐसी शर्मनाक घटनाएं सामने आती रहेंगी और कोई न कोई बेज्जती को शिकार होता रहेगा। प्रशासन को चाहिए कि, ऐसे मामलों में सख्त से सख्त कदम उठाया जाए ताकि, फिर ऐसे मामलों पर अंकुश लग सके और कोई भी ऐसी बर्रबरता का शिकार न हो।

 

LEAVE A REPLY