ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज:- बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान (SVDV) के संकाय में मुस्लिम शिक्षक डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति के खिलाफ मंगलवार को छात्रों का समूह आंदोलन करता रहा। आंदोलन कर्ता छात्रो का कहना है कि, उनकी हलचल तब तक जारी रहेगी जब तक इस मामले में कार्रवाई नहीं होती है।

जब BHU के वाइस चांसलर प्रो. भटनागर की कार धरना स्थल से गुजरी तो किसी ने गाड़ी को निशाना बनाते हुए उनकी कार पर एक पानी की बोतल और एक पत्थर मारा। हालांकि  प्रो. भटनागर ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि दोनो ही चीजे कार को नहीं मारी गयी थी। इस बीच, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) ने प्रदर्शनकारी छात्रों को अपना समर्थन दिया है।

धरना प्रदर्शन में भाग लेने वाले ”एसवीडीवी के संकाय में एक शोध विद्वान शुभम तिवारी ने कहा,  “बीएचयू प्रशासन द्वारा हमारी मांग स्वीकार नहीं किए जाने तक धरना समाप्त करने का कोई सवाल ही नहीं है। हम केवल डॉ. फिरोज को कुछ अन्य संकायों में स्थानांतरित करना चाहते हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषदके बीएचयू विंग के संयोजक अधोक्षज पांडे ने मांग को सही ठहराते हुए कहा, ‘उनकी मांग वास्तविक है। छात्र डॉ. फिरोज खान का स्थानांतरण चाहते हैं, क्योंकि वे केवल सनातन धर्म ’की शिक्षा प्रदान करने वाले एसवीडीवी के विंग में अपने शिक्षक के रूप में हिंदू चाहते हैं। वे डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति के खिलाफ नहीं हैं। उनका कहना है कि, वे किसी अन्य संकाय में पढ़ा सकते हैं। इसलिए, विविधता प्रशासन की मांग को स्वीकार करना चाहिए।

इस बीच, एसवीडीवी के प्रोफेसर वीपी मिश्रा ने छात्रों को पत्र लिख कर उनसे विरोध प्रदर्शन समाप्त करने का आग्रह किया है। वीपी मिश्रा ने वाइस चांसलर प्रो. राकेश भटनागर राकेश के साथ बैठक करने के बाद यह अपील की। वाइस चांसलर ने अपनी बात को दोहराते हुए कहा कि,  डॉ. फिरोज़ के चयन में सभी नियमों और विनियमों का सख्ती से पालन किया गया था।

एक अन्य विरोध में, एबीवीपी कार्यकर्ताओं के तहत छात्रों के एक समूह ने राजनीति विज्ञान विभाग के एक कमरे में स्थापित वीर सावरकर के चित्र को कथित रूप से काला करने को लेकर सोमवार और मंगलवार को बीएचयू में प्रदर्शन किया।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY