ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: बीजेपी की कद्दावर नेता सुषमा स्वराज के निधन से पूरा देश शोक में डूबा है।भाजपा ही नहीं, विपक्षी दल के राजनेता भी उनके निधन से बेहद दुखी हैं। अपने सरल स्वभाव के कारण विदेशों में प्रसिद्ध थीं। देश हो फिर विदेश या फिर बात करें पाकिस्तान की सुषमा ‘सुपर मॉम’ के रूप में पॉपुलर थीं।


ऐसा रहा सुषमा स्वराज का राजनीतिक जीवन:
1967 TDC1 से पढ़ी हैंं।  सुषमा स्वराज ने एसडी कॉलेज से अपनी पढ़ाई की। 1970 में उन्होंने राजनीतिक करियर की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से की। छात्र राजनीति से ही वह काफी अच्छी प्रवक्ता थीं।

sushma

वर्ष 1977 में उन्हें मात्र 25 वर्ष की आयु में हरियाणा सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। उन्होंने अम्बाला छावनी विधानसभा क्षेत्र से हरियाणा विधानसभा के लिए विधायक का चुनाव जीता था। 1977 से 79 तक वह राज्य की श्रम मंत्री रहीं।

swaraj

 

80 के दशक में भाजपा के गठन के वक्त ही वह पार्टी में शामिल हो गईं थीं। 1987 व 1990 में भी वह अंबाला छावनी से विधायक चुनीं गईं। महज 27 वर्ष की उम्र में वह हरियाणा में भाजपा की अध्यक्ष बन गईं थीं।1996 और 1998 में दक्षिण दिल्ली से लोकसभा सांसद बनी।

sushma

1998 में दिल्ली की मुख्यमंत्री बनी। 1999 में भाजपा ने उन्हें सोनिया गांधी के खिलाफ बेल्लारी से उतारा, जिसमें सात फीसदी मतों से हार मिली।2000 से 2003 तक केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहीं।2003 से 2004 तक स्वास्थ्य मंत्री का कार्यभार संभाला। उनके स्वास्थ्य मंत्री रहते केंद्र ने छह नए एम्स को हरी झंडी दी।

VIDEO भी देखें…

नरेंद्र मोदी ने सुषमा स्वराज को दी श्रद्धांजलि, 67 साल की निडर लीडर थी सुषमा स्वराज

नरेंद्र मोदी ने सुषमा स्वराज को दी श्रद्धांजलि, 67 साल की निडर लीडर थी सुषमा स्वराज #SushmaSwaraj #RIPSushmaSwaraj

Gepostet von Living India News Haryana am Dienstag, 6. August 2019

 

LEAVE A REPLY