ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज:  हरियाणा में अपराध चरम पर हैं। प्रदेश में कानून की स्थिति दयनीय रूप धारण कर चुकी है। जी हां ये हम नहीं आंकड़े कह रहे हैं। वहीं खट्टर सरकार कानून व्यवस्था के दुरूस्त होने का ढोल पिटती रहती है। लेकिन ये आंकड़े सामने आने के बाद अब साफ हो गया है कि, असल में कानून व्यवस्था पटरी से बाहर जा चुकी है। आंकडों में जो खुलासा हुआ है सचमुच चौंकाने वाला है। प्रदेश में हर दिन 3 हत्याएं, 5 दुष्कर्म और 1 डकैती की घटनाएं घटित होती हैं।

crime

वहीं मई 2018 से अप्रैल 2019 तक अपहरण के 3,763, दुष्कर्म के 1,681, हत्या के 1,087, डकैती के 310 सामने आए हैं। इसके अलावा अक्तूबर 2018 तक हत्या के 665 मामले, दुष्कर्म के 949,  हत्या के प्रयास के 571 मामले दर्ज हुए हैं।

crime in haryana

वहीं लिविंग इंडिया से बातचीत के दौरान बीजेपी के प्रदेश सह-प्रवक्ता भारत भूषण जुयाल ने दावा किया कि,खट्टर सरकार के राज में अपराध घटे हैं। पुलिस व्यवस्था भी दुरूस्त है। हरियाणा में पिछले एक साल में खट्टर सरकार ने व्यवस्था को चुस्त दुरूस्त बनाया है।

juyal
बीजेपी नेता के इस बयान के बाद यह प्रशन उठना लाज़मी है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था दुरूस्त है तो क्यों हरियामा में बदमाशों के हौंसले इतने बुलंद हैं? क्यों आए दिनों मासूम बच्चियां दरिंदगी का शिकार हो रही ਹੌਹੌਹੌहैं और क्यों दिनदहाड़े वारदातों को अंजाम देकर आरोपी फरार हो जाते हैं?

 

 

LEAVE A REPLY