ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: परिवहन विभाग की किलोमीटर स्कीम में एक बड़ा घोटाला सामने आया है। प्रदेश मुखिया सीएम खट्टर ने कर्मचारी संगठनों के साथ बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह स्वीकार किया है। इसी के चलते सीएम ने रोडवेज विभाग की 510 बसों के टेंडर रद्द कर दिए हैं। लेकिन 190 बसों के हुए टेंडर मान्य रहेंगे।

fraud

विजिलेंस की जांच रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि, परिवहन विभाग की जिस 4 सदस्यीय निगोशिएट कमेटी को बस ऑपरेटरों से बात कर रेट कम करने की जिम्मेदारी दी थी, वही गड़बड़ी के लिए बड़ी जिम्मेदार है। साथ ही यह भी खुलासा हुआ है कि, हाउसिंग बोर्ड व पीडब्ल्यूडी के एक-एक कर्मचारी के कंप्यूटरों का भी इसके लिए इस्तेमाल हुआ।

LEAVE A REPLY