Online Desk/ Living India News:पूरा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मना रहा है, लेकिन हरियाणा में बच्चे हेरोइन का सेवन कर रहे हैं, शॉकिंग है लेकिन इस सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता है। भारत में तंबाकू की प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ रही है। हालांकि सरकार और प्रशासन इसे रोकने के लिए मुहिम तो चला रहे हैं लेकिन नाकाम है।drugs in haryana punjab

फतेहाबाद में हेरोइन का काला बाजार !

उड़ता पंजाब का नाम आपने सुना होगा…लेकिन हरियाणा में भी हेरोइन का बिग बाजार तैयार हो चुका है। पंजाब से सटे फतेहाबाद में आसानी से हेरोइन लोगों को उपलब्ध हो रहा है। फतेहाबाद, टोहाना, रतिया यहां हेरोइन पंजाब के रास्ते आसानी से पहुंचता है क्योंकि ये पंजाब के बॉर्डर पर पड़ता है। चौकाने वाली बात ये है कि बच्चे तक इसकी पहुंच है। रतिया में दो नाबालिगों को हेरोइन का नशा करते हुए लोगों ने पकड़ा। लोगों का आरोप है कि यहां खुलेआम हेरोइन की तस्करी होती है लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती

सिरसा में सक्रिय नशा तस्कर गिरोह !

सिरसा जिले में नशा तस्करों का पूरा गिरोह सक्रिय है। डोडा, गांजा, अफीम की तस्करी यहां भी खुलेआम होती है। कई बार पुलिसिया कार्रवाई भी होती है लेकिन नशा तस्करों पर नकेल नहीं लग पाती।

drugs in haryana punjab1

 

गुरुग्राम में भी नशे का खेल !

प्रदेश के साइबर सिटी में भी नशे का खेल दिन रात चलता है। शराब के साथ साथ हुक्का बार लोगों के लिए आसानी से तंबाकू सेवन के लिए उपलब्ध है। जहां लोग जाकर अपनी जिंदगी को खर्च करते हैं। इसके अलावा अफीम से लेकर ड्रग्स तक आसानी से लोगों को उपलब्ध हो जाता है। कई बार छापेमारी में इसका खुलासा होता है और फिर बंद लिफाफे में मामला चला जाता है।

क्या है वजह ?

भारत में तंबाकू कंपनियों पर लगाम नहीं
खुलेआम परचून की दुकानों पर बिकता है तंबाकू उत्पाद
चेतावनी के नाम पर महज औपचारिकताएं पूरी कर बेचा जा रहा तंबाकू उत्पाद
बड़े बड़े शहरों में पब और बार में तंबाकू प्रोडक्ट सिगरेट से लेकर हुक्का के रूप में उपलब्ध है।
नशे की तस्करी पर लगाम लगाने में प्रशासन नाकाम
अंतरराष्ट्रीय और अंतरराज्यीय बॉर्डर से तस्करी आसान है

क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस ?

31 मई को तंबाकू जैसे नशे से दूर रहने के लिए इस दिवस को संकल्प के रूप में मनाया जाता है। 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन के सदस्य देशों ने तंबाकू महामारी, इसके रोकथाम और इससे होने वाली मौत और बीमारियों के कारण वैश्विक तौर पर ध्यान आकर्षित करने के लिए विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने का फैसला किया। भारत में भी इस दिवस को संकल्प के रूप में मनाया जाता है ताकि युवाओं को नशे से होने वाली बीमारियों के प्रति सचेत किया जाए।

मौत का कारण है तंबाकू !
विश्व में हर 6 सेकेंड में तंबाकू की वजह से होती है एक मौत
भारत में प्रति घंटे 137 लोग तंबाकू सेवन से मरते हैं।
शरीर के अंगों को सीधे नुकसान पहुंचाता है तंबाकू
धुंआ रहित तंबाकू से हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ जाता है
धुम्रपान से फेफड़े का कैंसर होता है।
तंबाकू चबाने से मुंह का कैंसर आम है।
1 सिगरेट जिंदगी के 11 मिनट खत्म कर देती है

पूरा पैकेट सिगरेट तीन घंटे चालीस मिनट उम्र कम कर देती है

LEAVE A REPLY