ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया न्यूज: हरियाणा में बीजेपी सरकार बनने के बाद से ही मंत्री और विधायक अधिकारियों पर बात न सुनने का आरोप लगाते रहे है, जो सरकार के साढ़े तीन साल पूरे होने के बाद भी जारी है। इतना ही नहीं गर्मियों की शुरूआत के साथ ही प्रदेश में बिजली संकट भी गहराने लगा है, जिसे लेकर विधायकों ने मीटिंग में सीएम को भी जानकारी दी।

Khattar Vij

हरियाणा सरकार के मुखिया मनोहर लाल और कुछ मंत्री सरकार में सबकुछ ठीक होने का दावा करते है, लेकिन कभी न कभी, कहीं न कहीं से किसी मंत्री या विधायक का दर्द सामने आ ही जाता है। कुछ ऐसा ही हुआ सीएम की विधायकों के साथ हुई मीटिंग में। सीएम के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने मीटिंग में सीएम और विधायकों के बीच हुई बातचीत की जानकारी दी। जैन ने बताया कि विधायकों ने सीएम से प्रदेश में चल रहे बिजली संकट की शिकायत की है। साथ ही उन्होंने कहा कि बिजली की दिक्कत कोयले की कमी के कारण हो रही है। विधायकों की ओर से अधिकारियों के बात न मानने की शिकायत करने पर राजीव जैन ने इसे स्वीकार करते हुए मामले में सरकार का बचाव भी किया।

RAJIV JAIN

जैन ने दबी जुबान में इसे स्वीकार करते हुए कहा कि यदि ऐसी कोई शिकायत आती है तो सीएम साहब खुद उस पर कार्रवाई करते है। भले ही राजीव जैन ने खुले रूप से विधायकों की ओर से अधिकारियों की शिकायत किए जाने की बात को स्वीकार न किया हो, लेकिन सीएम की ओर से ऐसे अधिकारियों पर कार्रवाई किए जाने की बात से ही ये साफ हो जाता है कि आज भी हरियाणा बीजेपी के कई विधायकों और मत्रियों की अधिकारी अनदेखी कर रहे है। हैरानी की बात है कि साढ़े तीन साल तक की सत्ता चलाने के बाद भी सीएम साहब ये नहीं समझ पाए कि आखिर किसी भी दल में कार्यकर्ता  और विधायक ही महत्वपूर्ण होते है। अब देखने वाल बात ये होगी की हरियाणा बीजेपी के विधायकों में चल रही ये नाराजगी आखिर कब दूर होगी?

 

LEAVE A REPLY