ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया:  डेरा मुखी गुरमीत राम रहीम और उसकी बेबी हनीप्रीत सलाखों के पीछे अपने किए गए बुरे कामों की सजा काट रहे हैं। डेरा सच्चा सौदा की राजदार हनीप्रीत ने राम रहीम को अदालत से भगाने की पूरी कोशिश की थी पर वो अपने मनसूबों में नाकाम रही। नाकाम होने के बाद फिर वो फरार हो गई थी। पर पुलिस ने हनीप्रीत के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसको देशद्रोह और पंचकूला में दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

Honeypreet

बता दें कि दंगा भड़काने के मामले के कारण हनीप्रीत की वीडियो कॉन्फैसिंग के जरिए उसकी पेशी हुई। इस दौरान हनीप्रीत के बचाव पक्ष ने ट्रॉसक्रिप्शन सीडी ना होने की बात कही जिसके बाद सुनवाई को वहीं रोक दिया गया और मंगलवार को भी इस मामले पर बहस नहीं हुई। फिलहाल इस मामले की अगली सुनवाई 5 जून को की जाएगी।

ram rahim honeypreet

बता दें कि यदि इस मामले में ट्रॉसक्रिप्शन सीडी पेश हो जाती तो हनीप्रीत और अन्य आरोपियों के खिलाफ चार्ज फ्रेम दर्ज कर दिया जाता। पर ट्रॉसक्रिप्शन सीडी ना होने के कारण हनीप्रीत के खिलाफ चार्ज फ्रेम दर्ज नहीं किया गया। गौरतलब है कि हनीप्रीत ने राम रहीम को भगाने के लिए पंचकूला में आग, दंगे करवाएं थे जिसमें वो काफी हद तक कामयाब भी हो चुकी थी पर पुलिस की सुरक्षा के बीच से राम रहीम को भगा ना पाई और राम रहीम को जेल भेज दिया गया।

LEAVE A REPLY