ऑनलाइन डेस्क/लिविंग इंडिया: जब किसी लड़की के सिर पर से मां बाप का साया उठ जाता है तो उसका अपने पैरों पर खड़े होना तो दूर जिदंगी जीने की भी आस नहीं रहती है। पर कोई इंसान ही होता है जो अपने दुखों से लड़ता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है पंजाब की अमनिंदर कौर ने।

Amaninder Kaur

बता दें कि अमनिंदर के माता पिता के देहांत के बाद उसकी बूआ उनकी दोनों बहनों को लेकर कैनेडा ले कर चली गई थी। कैनेडा में अमनिंदर ने अपने दम पर पुलिस विभाग में नौकरी शुरू की थी और आज वह कैनेडा के पुलिस विभाग में बतौर कमिश्नर तैनात है।

Amaninder Kaur

 

 

गौरतलब है कि अमनिंदर के पिता पंजाब में पुलिस कप्तान बतौर तैनात थे जिनकी सड़क हादसे में मौत हो गई। पांच साल के बाद अमनिंदर की माता को कैंसर के कारण निधन हो गया था। इतना होने के बावजूद भी  अमनिदंर ने हार नहीं मानी और अपने पैरों पर खड़ी हुई।

Amaninder Kaur

 

अमनिंदर के पिता के दोस्त का कहना है कि हमारे गांव की बेटी ने देश का नाम रोशन किया है। उसने पंजाब की बेटियों और उनकी परिवार वालों के लिए बेहतरीन उदाहरण पेश किया है।

LEAVE A REPLY