न्यूज़ डेस्क/लिविंग इंडिया : सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने ऐतिहासिक फैसले में 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ सहमति के बाद भी सेक्स को अपराध घोषित कर दिया है। अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 18 साल की उम्र सेक्स करने के लिए सही है। यहां तक की अगर 16 साल की पत्नी के साथ सहमति के बाद भी सेक्स किया जाता है तो भी वह रेप की श्रेणी में आएगा।

दरअसल, विवाह के बाद सेक्स को भारत में अपराध नहीं माना जाता है। वहीं सरकार का इस मसले पर पक्ष था कि ऐसे आदेश को पारित करने से वैवाहिक संबंधों में कमजोरी आएगी। यह भी सम्भावना है कि पुरूषों को बेवजह के आपराधिक मामलों में फंसा दिया जाए। लेकिन स्वयं सेवी संगठन की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आदेश पारित कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने सेक्स की सहमति के लिए 18 साल की उम्र भी निर्धारित कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने जजमेंट में साफ़-साफ़ कहा है कि ’18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ सहमति से सेक्स भी रेप होगा।’ वहीं याचिका दायर करने वालों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा है कि इस फैसले के बाद केंद्र सरकार के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को मदद मिलेगी।

LEAVE A REPLY