न्यूज़ डेस्क/लिविंग इंडिया : साध्वियों से बलात्कार के आरोप में डेरा सच्चा सौदा प्रधान बाबा गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में 20 साल की सजा काट रहा है। दूसरी तरफ पंचकूला में हिंसा फ़ैलाने और देशद्रोह के आरोप में राम रहीम की कथित बेटी हनीप्रीत पुलिस रिमांड पर है। वहीं पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि पंचकूला हिंसा के लिए डेरे से 8 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर इतनी बड़ी रकम डेरा के पास आई कहां से, आखिर डेरा को फंडिंग किस तरह होती है।

अगर पुलिस की इस थ्योरी पर यकीन किया जाए तो एक बात यह भी सामने आती है कि कहीं डेरा काले धन को सफ़ेद करने के काम में तो नहीं जुटा था। दरअसल, जिस तरह से पंचकूला में हिंसा फ़ैलाने के लिए रुपए जमा किए गए थे, उससे इस आशंका को भी बल मिला है। क्योंकि पुलिस मान रही है कि पंचकूला हिंसा के लिए बांटे गए रुपए असल में काला धन थे। हनीप्रीत ने भी हरियाणा पुलिस की SIT को विस्तार से बताया है कि रुपए किस तरह और कहां से उपलब्ध कराए गए थे और इनके पीछे कौन-कौन लोग शामिल थे।

हिंसा फ़ैलाने के लिए जो रुपये जमा किए गए थे, उससे जुड़ी एक फाइल भी पुलिस के हाथ लगी है। जिसमें फंडिंग से जुड़े सारे डिटेल्स हैं। इसकी भी जानकारी मिली है कि हनीप्रीत के निर्देश पर राम रहीम के 1.50 करोड़ की गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस का शक इसलिए भी गहराता जा रहा है कि जिस तरह से राम रहीम अय्याश ज़िंदगी जी रहा था उसके लिए करोड़ों रुपए की जरुरत होती है। वो फिल्म भी बना रहा था, मतलब साफ़ है कि डेरा सच्चा सौदा कहीं ना कहीं काला धन सफ़ेद करने में जुटा हुआ था।

 

LEAVE A REPLY