न्यूज डेस्क/लिविंग इंडिया : अगर आपको भी कैडबरी मिल्क चॉकलेट काफी पसंद है तो इस खबर को पढ़ना आपके लिए जरूरी है। क्योंकि कैडबरी मिल्क चॉकलेट बनाने वाली कंपनी मॉन्डेल्ज इंडिया फूड्स प्राइवेट लिमिटेड पर कोर्ट ने जुर्माना लगाया है। टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक आंध्रप्रदेश के गुंटूर जिले की उपभोक्ता अदालत बैक्टेरिया संक्रमित चॉकलेट भेजने पर 55 हजार रूपये का जुर्माना लगाया है। कंपनी को 50 हजार जुर्माने के साथ 5000 रूपये उपभोक्ता को देना होगा। इसके साथ ही दो चॉकलेट की कीमत मतलब 90 रूपये भी लौटाने होंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक गुंटूर जिले के ब्रॉडपिट में रहने वाली महिला अनुपमा ने 17 जुलाई 2016 को एक दुकान से दो चॉकलेट खरीदे थे। घर पर जब लोगों ने चॉकलेट खाया तो उसका स्वाद अलग था। जब दूसरे चॉकलेट का रैपर हटाकर देखा तो उसमें कुछ जमा हुआ था। इसके बाद अनुपमा ने मॉन्डेल्ज कंपनी को ई-मेल के जरिए शिकायत दी और तस्वीरें भी भेजी। ई-मेल मिलते ही कंपनी के प्रतिनिधि ने अनुपमा से संपर्क किया और मामले को अधिक नहीं उछालने का अनुरोध किया। प्रतिनिधि ने उस चॉकलेट का सैंपल भी अनुपमा से ले लिया।

जब कंपनी ने मामले में कोई पहल नहीं की तो लाचार अनुपमा उपभोक्ता फोरम की शरण में पहुंची। अनुपमा ने कंपनी से पांच लाख मुआवजा की मांग की। सुनवाई के दौरान अदालत ने कंपनी के प्रतिनिधि और रिटेलर को बुलाया। अदालत में रिटेलर ने बताया कि प्रोडक्ट के क्वालिटी को मेंटेन रखने की जिम्मेदारी उनकी नहीं है। कंपनी ने पैकिंग करके जो सामान दिया, उसे ग्राहकों को बेच दिया। पैकिंग के भीतर क्या है, इसका जिम्मा कंपनी का है। जिसके बाद अदालत ने कंपनी को लापरवाही का दोषी मानकर जुर्माना भरने का आदेश दिया।

 

LEAVE A REPLY