न्यूज़ डेस्क/लिविंग इंडिया : देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री में दोषी कौन है, इस पर एक बार फिर पर्दा पड़ गया है। गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आरूषि-हेमराज में डॉ. राजेश तलवार और नूपुर तलवार को बरी कर दिया है। राजेश और नूपुर की बेटी आरूषि अपने बेडरूम में मृत मिली थी और पहले नौकर हेमराज को कातिल माना गया था। लेकिन जब छत पर हेमराज का शव मिला तो पुलिस ने डॉ. रमेश तलवार और नूपुर तलवार को हत्या का आरोपी बताया। तलवार दम्पति साल 2013 से उम्रकैद की सजा काट रहे थे।

एक नज़र में जानें आरूषि-हेमराज हत्याकांड

साल 2008

  • मई 16 : नोएडा के जलवायु विहार में आरूषि तलवार शव बेडरूम में मिला।
  • मई 17 : आरूषि की हत्या के संदिग्ध हेमराज का शव राजेश तलवार की घर के छत से मिला।
  • मई 18 : पुलिस ने कहा कि हत्या सर्जिकल चाकू से किया गया है।
  • मई 19 : तलवार दंपत्ति के पूर्व नौकर विष्णु शर्मा को दोषी बताया गया।
  • मई 21 : दिल्ली पुलिस ने हत्या की जांच शुरू की।
  • मई 22 : आरूषि के पिता राजेश तलवार और मां नूपुर तलवार पर गहराया हत्या का शक।
  • मई 23 : आरूषि के पिता डॉ. राजेश तलवार को दोहरे हत्याकांड में गिरफ्तार किया गया।
  • जून 1 : केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने आरूषि-हेमराज हत्याकांड की जांच शुरू की।
  • जून 19 : डॉ. राजेश तलवार के दूसरे लाई-डिटेक्टर टेस्ट की इजाजत मांगी गई।
  • जून 20 : राजेश तलवार का लाई-डिटेक्टर टेस्ट किया गया।
  • जून 25 : आरूषि की मां नूपुर तलवार का लाई-डिटेक्टर टेस्ट कराया गया।
  • जून 26 : राजेश तलवार की जमानत अर्जी गाजियाबाद के स्पेशल मजिस्ट्रेट ने खारिज की।
  • जुलाई 12 : CBI के सबूत नहीं देने पर गाजियाबाद कोर्ट ने राजेश तलवार को जमानत दी।

साल 2010

  • जनवरी 5 : CBI ने तलवार दंपत्ति के नारको-टेस्ट की इजाजत कोर्ट से मांगी।
  • दिसंबर 29 : CBI ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट दायर किया, नौकरों को क्लीन चिट दी।

साल 2011

  • फरवरी 9 : CBI के सबूतों के आधार पर तलवार दंपत्ति को हत्या और सबूतों से छेड़छाड़ का दोषी बताया गया।
  • फरवरी 21 : तलवार दंपत्ति ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में ट्रायल कोर्ट के समन को चुनौती दी।
  • मार्च 18 : हाईकोर्ट ने तलवार दंपत्ति की याचिका ठुकरा दी।

साल 2012

  • जनवरी 6 : सुप्रीम कोर्ट ने तलवार दंपत्ति की याचिका को ठुकरा दिया।
  • अप्रैल 30 : राजेश तलवार की पत्नी नूपुर तलवार को गिरफ्तार किया गया।
  • मई 25 : तलवार दंपत्ति को हत्या, साजिश और सबूतों से छेड़छाड़ का दोषी पाया गया।

साल 2013

  • अप्रैल में CBI ने कोर्ट को कहा कि आरूषि-हेमराज की हत्या राजेश और नूपुर तलवार ने की।
  • नवंबर में तलवार दंपत्ति को आरोपी ठहराकर उम्रकैद की सजा सुनाई।
  • दोनों को गाजियाबाद के डासना जेल में भेज दिया गया।

साल 2017

  • 12 अक्टूबर : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आरूषि-हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपत्ति को रिहा कर दिया।

 

LEAVE A REPLY