फिरोज़पुर: पंजाब में किसानों पर दोहरी कहें या तिहरी लेकिन मार जरूर पड़ रही है, कहीं ऊपर वाला मुसीबतें बढ़ा रहा है तो कही इंसान की कारगुजारी किसानों की जिंदगी पर हावी है। पहले से ही कर्ज का बोझ, ऊपर से कपास की फसल में सफेद मक्खी का प्रकोप और अब सतलुज और ब्यास नदी में बाढ़ जैसे हालात से कई गांवों के सैकड़ों हजारों एकड़ फसल जलमग्न हो चुके हैं। यानि जीरी बचाने की चिंता।

LEAVE A REPLY